ISSN2320-5733

विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें : 9205867927

समसामयिक सृजनयूजीसी केयर लिस्ट में शामिल

अपने हिय की बात हिन्दी सहित्येतिहास-लेखन की समस्याएँ डॉ. महेंद्र प्रजापति शेयर करें

"हिन्दी सहित्येतिहास-लेखन की समस्याएँ" विषय पर जब कुछ बोलना चाहता हूँ उससे पहले ही एक यक्ष प्र्श्न सीना ताने सामने खड़ा हो जाता है- "वर्तमान समय मे क्या हिन्दी साहित्य का संपूर्ण इतिहास लिखा जाना संभव है?" उत्तर, जो मेरे मान मे आता है-'नही' | मेरे विचार से मेरे विचार से जिस तरह से छायावाद की जैसी भी परिभाषा गढ़ी-खरादी जाय किसी ना सी कवि या प्रवृति का उससे बाहर हो जाना लाजिमी है|

उसी प्रकार साहित्य का इतिहास चाहे जैसे भी लिखा जाय कुछ ना कुछ छूटना मजबूरी है, कारण-जब भी कोई चिंतक हिन्दी साहित्य का लिखने का साहस करता है उसकी अपनी एक विचारधारा होती है, एक सोच एक दृष्टि होती है| जो उसकी विचारधारा , सोच और दृष्टि के पैमाने मे नही आएगा वह उसके इतिहास से बाहर जाएगा | या कर दिया जाएगा |

इन खबरों को भी पढ़ें

पुस्तकें

Samsamyik Srijan
Samsamyik Srijan
Samsamyik Srijan
Samsamyik Srijan
Samsamyik Srijan
Samsamyik Srijan
lifetopacademy
campuscornernews

अब अपने मोबाइल पर samsamyik srijan अंग्रेजी में या समसामयिक सृजन हिंदी में टाइप करें और पढ़े हमारी वेबसाइट पर विभिन्न विधाओं में रचनाएं, साक्षात्कार साथ ही साहित्य, कला, संस्कृति, विमर्श, सिनेमा से जुड़े शानदार लेख। रचनाएं भी भेजें।